टी-20 के बाद भारत ने गंवाई वनडे 🏆सीरीज, निर्णायक मुकाबले में 35 रन से जीता ऑस्ट्रेलिया

23

दिल्ली के फिरोजशाह कोटला में खेले गए आखिरी मैच में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी और बाद में गेंदबाजी में शानदार प्रदर्शन करते हुए मेजबान टीम इंडिया को 35 रनों से हरा दिया। 273 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम 50 ओवर में 237 रन बनाकर आउट हो गई। इस तरह कंगारुओ ने 3-2 से सीरीज पर कब्जा जमा लिया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत निराशाजनक रही। पिछले मैच के शतकवीर रहे शिखर धवन 12 दिल्ली में फिर जल्दी आउट हो गए। पैट कमिंस ने विकेट के पीछे एलेक्स कैरी के हाथों उन्हें लपकवाया। इसके बाद बल्लेबाजी करने आए कप्तान विराट कोहली 20 ने रोहित शर्मा के साथ टीम को संभालने की कोशिश की। दोनों के बीच दूसरे विकेट के लिए 53 रन की साझेदारी हो चुकी थी, तभी मार्कस स्टोइनिस की बॉल पर विराट विकेट कीपर कैरी को कैच थमा बैठे।

विश्व कप टीम के लिए अपनी दावेदारी ठोक रहे ऋषभ पंत से आज टीम को बेहद उम्मीदें थी, लेकिन उन्होंने भी निराश ही किया। 16 गेंदों में 16 रन बनाकर लियोन की फिरकी में फंस गए और स्लिप में कैच दे बैठे। जल्द ही नए बल्लेबाज विजय शंकर भी चलते बने। इस बीच रोहित ने अपना अर्धशतक पूरा किया।

29वें.ओवर की दूसरी गेंद पर जंपा भारतीय बल्लेबाजों के लिए काल बनकर आए। पहले रोहित शर्मा (89 गेंदों में 56 रन) को स्टंपिंग किया। फिर पांचवीं गेंद पर रविंद्र जडेजा को बिना खाता खोले ही उसी अंदाज में पवेलियन लौटाया। यहां से केदार जाधव और भुवनेश्वर कुमार के बीच सातवें विकेट के लिए 91 रन की अहम साझेदारी हुई, लेकिन तभी कमिंस ने भुवनेश्वर 46 को फिंच के हाथों कैच कराकर साझेदारी को तोड़ दिया।

इसके बाद रिचर्डसन ने केदार जाधव 44 को मैक्सवेल के हाथों कैच कराकर भारत की रही सही उम्मीद भी तोड़ दी। यहां से भारतीय टीम के शेष दो बल्लेबाज भी आखिरी ओवर की अंतिम बॉल पर पवेलियन लौट गए और भारत को सीरीज हार का मुंह देखना पड़ा।

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले खेलते हुए उस्मान ख्वाजा के शतक 100 तथा हैंड्सकॉम्ब 52 की पारियों की बदौलत निर्धारित 50 ओवर में 272 रन का स्कोर खड़ा किया था। भारत की ओर से भुवनेश्वर कुमार ने 3 तो मोहम्मद शमी-रविंद्र जडेजा ने 2-2 विकेट लिए। कुलदीप यादव के खाते में 1 विकेट आया।

*मैन ऑफ द मैच व सीरीज- उस्मान ख्वाजा*