प्रधानमंत्री आवास के आवंटन में जमकर हुआ है खेल सूची में भी की गई हेराफेरी, ग्राम पंचायत जगतपुर का मामला

13

हैदरगढ़ बाराबंकी।

जब ग्राम प्रधान अपने चहेतों पर मेहरबान होते है तो सारे नियम कानून छोटे पड़ जाते हैं शासनादेश तो कुछ नही रहता सिर्फ ग्राम प्रधान का आदेश चलता है

ग्राम प्रधान ने पहले तो अपने खास चहेते अपात्रों को नियम कानून तोड़कर प्रधानमंत्री आवास आवंटित कराये और उसके बाद तालाबी रकबे पर उनका निर्माण करवा रहे है पात्र ग्रामीणों ने इसकी लिखित शिकायत उच्चाधिकारियों से की लेकिन कोई कार्यवाही न होने पर ग्रामीणों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है।

जानकारी के अनुसार तहसील हैदरगढ़ सीमा से सटे विकास खण्ड़ सिंहपुर की ग्राम पंचायत जगतपुर में वर्तमान समय में एक दलित विरादरी का ग्राम प्रधान राम बक्श है लेकिन उसके प्रतिनिधि के रूप में शिव बक्श सिंह सारा काम देखते है इन लोगों ने प्रधानमंत्री आवास की जो सूची थी उस सूची में जमकर मनमानी की क्रमानुसार जिन गरीबों को प्रधानमंत्री आवास मिलना था

उनका कही पर नामो निशान नही है प्रधान और उनके प्रतिनिधि ने ग्राम विकास अधिकारी से सांठ-गांठ कर अपने चहेते अपात्रों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलवा दिया

जबकि दर्जनों पात्र इस उम्मीद में बैठे थे कि सूची में उनका नाम है तो आवास जरूर मिलेगा। लेकिन जब कुछ माह पूर्व अपात्रों के आवास के निर्माण कार्य ग्राम प्रधान व उनके प्रतिनिधि कराने लगे तो गांव के पात्र ग्रामीणों के पैरों तले जमीन खिसक गई।

इन ग्रामीणों ने सबसे पहले खण्ड विकास अधिकारी सिंहपुर और उसके बाद उपजिलाधिकारी तिलोई से लिखित शिकायत की लेकिन नतीजा कुछ नही निकला।

ग्रामीणों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इसकी शिकायत कर अपात्रों के आवास निरस्त करवाकर नये सिरे से गरीब पात्रों को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलवाये जाने की मांग की। इस गड़बड़ घोटाले के मामले में जब ग्राम प्रधान जगतपुर से बात किया गया तो उनका कहना था कि जितने भी प्रधानमंत्री आवास मुझे शासन द्वारा आवंटित किये गये है वह सभी पात्र है नियमानुसार ही आवासों का वितरण किया गया है।

तालाब में बन रहे हैं आवास

हैदरगढ़ बाराबंकी।

ग्राम पंचायत जगतपुर के ग्राम प्रधान ने अपात्रों को आवास दिया ही साथ ही में तालाबी गाटा सं0 424 खलिहान गाटा सं0 340,422 में प्रधानमंत्री आवास भी बनवाने शुरू कर दिये जबकि अधिकांश लोगों के पास खुद की जमीन भी है। इतना ही नही ग्राम प्रधान ने उपजिलाधिकारी तक को अधेरें में रखा जहां पर आवास बनवाये जा रहे है उन लोगों के नामों का कोई पट्टा तक नही है

कुछ ग्रामीणों का आरोप भी है कि तालाबी रकबे के किनारे कीमती सरकारी जमीन है उस जमीन पर ग्राम प्रधान व उनके प्रतिनिधि अपनी नजरे गड़ाये हुये है वही उपजिलाधिकारी तिलोई का कहना है कि अगर इस तरह की बात है तो गलत है शिकायत मिलेगी तो जांच करवाकर कार्यवाही की जायेगी।

अर्पित गुप्ता जिला रिपोर्टर महोबा
मोबाइल नं- 9628308060