बिहार में सीट बंटवारे के मुद्दे पर नीतीश कुमार के सामने कैसे झुकी भाजपा

13

बिहार। लोकसभा चुनाव 2019

में एनडीए (Bihar NDA) के सहयोगियों के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. कौन सी पार्टी किसी सीट पर लड़ेगी, इसपर सहमति बन गई है.

पटना: बिहार में एनडीए (Bihar NDA) के सहयोगियों के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. कौन सी पार्टी किसी सीट पर लड़ेगी, इसपर सहमति बन गई है. हालांकि इसकी विधिवत घोषणा अभी नहीं हुई है, लेकिन बीजेपी सूत्रों की मानें तो जो सूची मीडिया में आई है, फिलहाल उसका किसी ने खंडन नहीं किया है. भाजपा नेता मानते हैं कि इस बात में कोई हिचक नहीं होनी चाहिए कि सूची को फाइनल करने में इस बार नीतीश कुमार के मान-सम्मान का पूरा ख्याल रखा गया. यही वजह है कि बीजेपी ने भागलपुर और गया जैसी अपनी परंपरागत सीटों को जदयू को देने में हिचक नहीं की

इसके अलावा वाल्मीकि नगर, सीतामढ़ी, गोपालगंज, सुपौल, झंझारपुर, जहानाबाद, करकात या मधेपुरा जैसी सीट, जो नीतीश कुमार की परंपरागत सीटें रही हैं, उसपर कोई माथापच्ची नहीं की गई. दूसरी तरफ, रामविलास पासवान लंबे समय से मुंगेर की सीट मांग रहे थे. यहां से नीतीश के करीबी जल संसाधन मंत्री ललन सिंह मैदान में होंगे. भाजपा के लिए सबसे सम्माजनक बात ये रही कि गिरिराज सिंह को छोड़कर उसके सभी मंत्री अपनी पुरानी सीट से ही चुनाव लड़ेंगे. गिरिराज सिंह को अब नवादा के बदले बेगूसराय से चुनाव लड़ना होगा. वहीं, लोक जनशक्ति पार्टी इस बात से खुश है कि उसे सीटों के बंटवारे में सिर्फ मुंगेर के बदले नवादा के अलावा ज़्यादा नुक़सान नहीं उठाना पड़ा है

अर्पित गुप्ता क्राइम रिपोर्टर महोबा
मोबाइल नं-9628308060