BJP राम का नहीं, नाथूराम गोडसे का बनवाना चाहती है मंदिर: तेजस्वी

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (फोटो-Twitter/@yadavtejashwi)

अयोध्या में राम मंदिर बनाने को लेकर चल रहे विवादों के बीच आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राम का मंदिर नहीं बल्कि अपने आदर्श नाथूराम गोडसे और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दूसरे सर संघचालक माधव सदाशिव गोलवलकर का मंदिर बनाने की मंशा रखती है.

बिहार विधानसभा के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन पत्रकारों से बातचीत करते हुए तेजस्वी यादव ने शुक्रवार को कहा कि बीजेपी अपने काम पर नहीं बल्कि राम के नाम पर वोट मांगने में भरोसा करती है. उन्होंने कहा कि 5 राज्य में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं और जब देश में कभी भी चुनाव होता है तो बीजेपी राम के नाम को उछालती है और उसी के नाम पर वोट लेने की कोशिश करती है.

तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी अपने काम के भरोसे चुनाव नहीं जीत सकती है. इसीलिए राम के भरोसे चुनाव जीतना चाहती है. पिछले 4 सालों में केंद्र की बीजेपी सरकार को राम की याद नहीं आई मगर 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से ठीक पह ले उन्हें राम मंदिर की याद आ रही है.

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री ने कहा कि राम बीजेपी के लिए भगवान नहीं है बल्कि उनके असली भगवान गोलवलकर और नाथूराम गोडसे हैं. आरजेडी नेता ने कहा कि बीजेपी देश में राम मंदिर नहीं बल्कि गोलवलकर और नाथूराम गोडसे का मंदिर बनवाना चाहती है.

तेजस्वी ने कहा कि राम मंदिर का मुद्दा फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में लंबित है. सभी पक्षों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करना चाहिए. शीर्ष कोर्ट राम मंदिर को लेकर जो भी फैसला देता है वह सभी को मान्य होना चाहिए.